Posts

Showing posts from August, 2016

अब नीति आयोग होगा सख्त और सक्रिय :

Image
अब होगा भारत का नीति आयोग सक्रिय
....................................................

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रनाथ दामोदरदास मोदी जी भारतीय जनजीवन का सृजनशील कायाकल्प पूरी तरह से करना चाहते हैं | वे भारतीय जनजीवन को पूरी तरह से अनुशासित, शिक्षित, संगठित, अपराधमुक्त, रोजगारयुक्त, गोरवशाली , प्रतिभाशाली, मर्यादाशाली , सृमद्धिशाली, वैभवशाली , विकासशील एंव शक्तिशाली बनाना चाहते हैं | उन्हें यह तथ्य भलींभांति मालूम है कि भारतीय जनजीवन को अपराधमुक्त एंव रोजगारयुक्त किये बिना सभी का साथ व सभी का विकास सम्भव नहीं | यही तथ्य उन्होनें देश के नीति आयोग टीम के प्रत्येक नीतिकार को भलींभांति समझायी है | लिहाजा देश के नीति आयोग टीम प्रत्येक नीतिकार को चाहिये कि वह नेकनियति व नेकनीति के तहत अपनी नेक व एक योजना भारतीय जनजीवनहित में व उसके न्यायहित में ऐसी बनायें जिसके तहत भारत के प्रत्येक विवाहित, अविवाहित व मृतक भारतीय नागरिक को उसके विवाह, जन्म व मृत्यु का पंजीकरण, बीमाकरण व लाईसैंसीकरण का प्रमाणपत्र व पहिचानपत्र अनिवार्य एंव परमावश्यकरूप से प्राप्त हो और यह दस्तावेज भारतीय नागरिकों के पह…

बेटी बचाव बेटी पढ़ाओ

Image
बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और उसे आत्मनिर्भर बनाओ|

Help is God
God is Help


Written by AKANKSHA SAXENA










हाल ही प्रकाशित लेख...

Image
प्रकाशित लेख
...........................


Article link

ऐसे हो भारत का कायाकल्प: भारत कायाकल्प
http://www.shramjeevijournalist.com/article/india-rejuvenation-campaign/

http://www.amjabharat.com/2016/08/6_28.html
लखनऊ, आकांक्षा सक्सेना  - देश के नीति आयोग की ओर से आयोजित "भारत परिवर्तन व्याख्यान" में देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रनाथ दामोदरदास मोदी जी ने कहा कि "भारत को अब क्रमिक विकास की नहीं कायाकल्प की जरूरत है"| परन्तु यह सम्भव होगा कैसे ? हमारे विचार से भारत के कायाकल्प के लिये भारतीय जनजीवन को

http://emedialivemp.jimdo.com/क-ष-त-र-य-सम-च-र/

नागदा समाचार - 26-08-2016
















ऐसे हो भारत का कायाकल्प :

Image
भारत कायाकल्प अभियान  : .................................

'अपराधमुक्त एंव रोजगारयुक्त भारत'
देश के नीति आयोग की ओर से आयोजित "भारत परिवर्तन व्याख्यान" में देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रनाथ दामोदरदास मोदी जी ने कहा कि "भारत को अब क्रमिक विकास की नहीं कायाकल्प की जरूरत है"| परन्तु यह सम्भव होगा कैसे ? हमारे विचार से भारत के कायाकल्प के लिये भारतीय जनजीवन को अपराधमुक्त एंव रोजगारयुक्त किया जाना भारतीय जनजीवनहित में व उनके न्यायहित में अनिवार्य एंव परमावश्यक है | इसके लिये देश में राष्ट्रव्यापी " राष्ट्रीय अपराध मुक्तता एंव रोजगार युक्तता भारतीय कायाकल्प अभियान" संचालित एंव क्रियांवित किया जाना जरूरी एंव आवश्यक है | देश की मूल चिन्ता यह है कि देश अपराधमुक्त हो और देश की मूल जरूरत यह है कि देश रोजगारयुक्त हो | इसके लिये देश के प्रत्येक विवाहित एंव अविवाहित एंव मृतक भारतीय नागरिक को उसके विवाह, जन्म व मृत्यु का पंजीकरण, बीमाकरण व लाईसैंसीकरण का प्रमाणपत्र एंव इन नागरिकों को इनका डी .एन .टेस्ट रिपोर्ट सहित दिया जाना तथा इसे भारतीय नागरिकों के सभी प्र…

श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष :

Image
क्यों लिया भगवान श्री कृष्ण ने               जन्म ? ..........................................

इस देश में दूसरों के तन- मन व धन के लालची चुगलखोर गद्दारों की, देश के दुश्मनों की व इस देश को अपने व विदेशियों का गुलाम बनाये जाने वालों की कमी कभी नहीं रही है | ये वे लोग हैं जो स्वंय में कानूनविद् , पूंजीपति एंव सत्तासीन है जिन्होंने  अपनी विभाजन एंव विनाश की बदनियति एंव बदनीति के तहत इस देश को हजारों वर्षों तक अपना एंव विदेशियों का गुलाम बनाकर रखा है अन्यथा यह देश डचों, पुर्तगालियों , यूनानियों , मुगलों एंव ब्रिटिश के अंग्रेजों का एंव इनका गुलाम न होता | ऐसे ही स्वदेशी गद्दारों से इस देश की आंतरिक एंव बाहरी शांति, सुरक्षा व संरक्षा को हमेसा ही खतरा रहा है और वर्तमान में भी है | ये वे आस्तीन के सांप स्वदेशी गद्दार है जिन्होंने इस देश को अपराधयुक्त एंव रोजगारमुक्त बनाया है | ऐसे ही गद्दारों का विभाजन ( वध ) एंव विनाश करने के लिये भगवान श्री कृष्ण चन्द्र बासुदेव जी ने इस धरती पर जन्म लिया और ऐसे ही आस्तीन के सापों गद्दार लोगों का महाभारत के युद्ध में इनका वध एंव विनाश किया | देश को ऐसे ही भ…

सवा सौ करोड़ भारतीयों की चिंता एंव जरूरत व उसका निराकरण :

सवा सौ करोड़ भारतीयों की चिंता एंव जरूरत व उसका निराकरण  :

सवा सौ करोड़ भारतीयों की चिंता एंव जरूरत ये है कि उनके पहिचान के सभी प्रकार के दस्तावेजों में दाखिल एंव खारिज उनका विवाहित, अविवाहित (जन्मा )एंव मृतक जीवन पंजीकृत वैधानिक, बीमाकृत संवैधानिक एंव लाईसौंसीकृत कानूनी, भारतीय उत्तराधिकारित, राष्ट्रीय मानवाधिकारित एंव भारतीय सर्वोच्च निर्णायक निर्वाविवादित अपराधमुक्त अनिवार्य एंव परमावश्यक रूप से दर्ज हो तथा उन्हें अपने जीवन का श्रजनशील उद्धेश्य पूरा किये जाने हेतु उनकी इच्छा व योग्यतानुसार बिना किसी बाधा के समान सरकारी व मतकारी, अर्धसरकारी व कर्मचारी एंव निजीकारी व श्रमकारी आजीविका व पैंसन तथा बुनियादी सेवायें व सुविधायें अनिवार्य एंव परमावश्यकरूप से प्राप्त हों और वे रोजगारयुक्त हों और न्याययुक्त हों |
    यह काम देश के माननीय सर्वोच्च मुख्य न्यायाधीश , केन्द्रीय संघ सरकार के मुखिया, देश की सभी समाजसेवी संस्थाओं एंव देश के सभी प्रिन्ट एंव इलेक्ट्रानिक मीडिया को व्यक्तिगत दिलचस्पी एंव पारदर्शिता से राष्ट्र के पुर्निमाण के लिये करना चाहिये तथा राष्ट्र में राष्ट्रव्यापी

" राष्ट…