Sunday, January 6, 2013

ये नंगी चट्टानें है





ये नंगी चट्टानें है 
......................

ये नंगी चट्टानें है 

इनका कोई दिल ही नहीं 


और जब दिल ही नही तो 


दिल में जज्बात नही 


देखो सड़कों के किनारे 


आज लेटे है ठिठुरते 


दिल अनेका अनेक 




ये नंगी चट्टानें है 


इनमें कोई भाव नही 


छोटे छोटे मासूम यहाँ
 

लड़ते है रोज़ गरीबी से 


हर दिल की बोली


लगानेवालों की


बहुत लम्बी है 


कतार यहाँ 




ये नंगी चट्टानें है 


इनके अन्दर जीवन ही नही 


जीवन का अर्थ वो क्या जाने 


जो जड़ ही जन्मते
 

और जड़ ही मरा करते है 




ये नंगी चट्टानें है 


ये अधूरी चट्टानें है 


ये चट्टानों की चट्टाने है
 
इससे ज्यादा और कुछ भी नहीं  
.......................


...........................................

आकांक्षा सक्सेना 
जिला - औरैया 
उत्तर प्रदेश 
2013


Friday, January 4, 2013

जय माँ राधारानी






 प्रेम रूप माँ राधारानी 

........................




प्रेमपूर्ण माँ राधारानी 




अब तो सुन लो एक बात हमारी 



तुम हो प्यारे सावरे की धड़कन 



तुम से है क्या बात छिपानी 




        अब तो सुन लो ये बात हमारी 


        दर्शन  दे दो माँ राधारानी 


 जीवन भक्तों का दुखों से भरा 

दुनिया में बहती स्वार्थ की धारा 

भक्तों की नैया मझदार में है 

का दो सबका बड़ा पार ओ माँ 


         आ जाओ माँ ये अरज हमारी 

         सुन लो पुकार ओ ! बरसानेवाली 


तुम सारे जगत की माँ हो 

प्रेम रूप माँ शक्ति माँ हो 


ऋषियों मुनियों ने माँ ध्यान लगाया 

भक्तों ने हमेसा गुणगान तेरा गाया 


          अब आ भी जाओ जग माता 

           ये जन्म सुधारो जग माता 

...............................................
                              

                   *जय श्री राधेकृष्ण*
............................................................ 
          आकांक्षा सक्सेना 
          जिला - औरैया 
           उत्तर प्रदेश 

कायल हूँ







                                                               
             कायल हूँ 
..........................................................................................................

नाथों के नाथ ओ श्याम मनोहर 

भक्तों की डांट-फटकार सुनो 

वो बुरा भी बोले तो बुरा सुनो 

वो गुस्से से उबले वो भी सुनो 

बस तुमसे एक गुज़ारिस है
 
तुम प्रेम प्रभु हो बस प्रेम करो 

हम मूरख है हम पागल है 

तेरी भक्ति मैं प्रभु घायल हैं 

जो मीठा दर्द है तेरी भक्ति में 

बस उस दर्द के हम प्रभु कायल हैं ।

.............................

आकांक्षा सक्सेना 
जिला -औरैया 
उत्तर प्रदेश 

Thursday, January 3, 2013

ये प्यार है या कोई जंग प्रभु


                                      


ये प्यार है या कोई जंग प्रभु 

..........................................................................................................


 ये प्यार है या कोई जंग प्रभु 
लेन-देन का खेल यहाँ 
ये व्यापार है या कोई बाज़ार प्रभु 

ये प्यार है या कोई जंग प्रभु 
बस आगे जाने की होड़ यहाँ 
ये घर है या घुड़दौड़ मैदान प्रभु 

ये प्यार है या कोई जंग प्रभु 
जब पैसा ही भगवान बना 
ये इंसान है या रोबोट प्रभु 

ये प्यार है या कोई जंग प्रभु 
गौ माता को काट बना हत्यारा 
ये इंसान है या कोई दैत्य प्रभु 

ये प्यार है या कोई जंग प्रभु 
ये संसार है या कोई स्वप्न प्रभु 
जो घट रहा है वो असहनीय है प्रभु 

..........................

आकांक्षा सक्सेना 
जिला -औरैया 
उत्तर प्रदेश